कोरबा

जिले में वर्मी कम्पोस्ट, रासायनिक खाद, बीज एवं नगद कृषि ऋण वितरण के लिए शिविर का किया जा रहा आयोजन

छह मई तक जिले के सहकारी समितियों में आयोजित किए जा रहे कृषि आदान शिविर

 

कलेक्टर श्रीमती साहू ने किसानों से अधिक से अधिक संख्या में शिविर स्थल में आकर लाभ उठाने की अपील की

कोरबा/ जिले के सहकारी समितियों में खरीफ 2022 के लिए रासायनिक उर्वरकों – वर्मी कम्पोस्ट के अग्रिम उठाव, फसल ऋण एवं के.सी. सी. हेतु शिविर का आयोजन किया जा रहा है। राष्ट्रीयकृत बैंकों एवं ग्रामीण बैंकों की शाखाओं में शाखा स्तर पर केसीसी एवं फसल कृषि ऋण प्रदाय हेतु अग्रणी बैंक के दिशानिर्देशन में छह मई 2022 तक कृषि आदान शिविर आयोजित किए जा रहे है । कलेक्टर रानू साहू ने जिले के किसानों से अधिक से अधिक संख्या में शिविर स्थल तक आकर शिविर में प्रदान की जा रही सेवाओं का लाभ उठाने की अपील की है। साथ ही अभियान के तहत शिविर में कृषकों को वितरीत फसल ऋण, जारी किसान क्रेडिट कार्ड, अग्रिम उर्वरक एवं वर्मी कम्पोस्ट उठाव का प्रतिदिन रिकार्ड संधारित कर दैनिक प्रतिवेदन उपलब्ध कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए है। सहकारी बैंक के नोडल अधिकारी एस के जोशी ने बताया कि जिले के सहकारी समितियों में शिविर का आयोजन किया जा रहा है। शिविर स्थल पर किसानों को रासायनिक उर्वरक, वर्मी कंपोस्ट उठाव सहित खाद बीज के लिए फसल ऋण की जानकारी दी जा रही है। साथ ही किसानों को सेवाओं से लाभान्वित भी किया जा रहा है। कृषि और सहकारी विभाग द्वारा किसानों को अधिक से अधिक संख्या में शिविर में आकर सुविधाओं का लाभ उठाने की अपील की जा रही है। छह मई तक आयोजित किए जाने वाले शिविरों में आदिम जाति सेवा सहकारी समिति मर्यादित श्यांग, पोड़ीउपरोड़ा, पाली, करतला, कटघोरा, छुरीकला, सोनपुरी, लाफा, चिकनीपाली, सिरमिना भिलाईबाजार, भैसमा, पोड़ी, रामपुर, बिंझरा, कोरकोमा, चैतमा, सोहागपुर, जटगा, जवाली अखरापाली, तिलकेजा, उतरदा, कोथारी, मोरगा, बरपाली, निरधी, सुखरीकला, कोरबी, हरदीबाजार, बरपाली, पसान, कनकी, तुमान, पठियापाली, नवापारा, पिपरिया एवं कुल्हरिया शामिल हैं।

जिले के सहकारी समितियों एवं बैंकों की शाखा कार्यालयों में शिविर आयोजित कर कृषि, उद्यानिकी,पशुपालन, मछलीपालन, ग्रामोद्योग एवं रेशम विभाग, वन विभाग के जिला – विकासखण्ड स्तरीय अधिकारियों एवं मैदानी विस्तार अमलो, सहकारी समिति एवं बैंकों के अधिकारियों, कृषक मित्रों की भागीदारी सुनिश्चित की जा रही है। इनके द्वारा कृषकों को फसल ऋण, नवीन किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने, अग्रिम उर्वरक एवं वर्मी कम्पोस्ट उठाव की कार्यवाही की जा रही है। शिविर में वर्मी कम्पोस्ट के लाभ एवं उपयोग के संबंध में कृषकों को जानकारी दी जा रही है। साथ ही समितियों से वर्मी कम्पोस्ट के उठाव हेतु कृषकों को विशेष रूप से प्रोत्साहित किया जा रहा है। शिविर में कृषि, उद्यानिकी फसलों की खेती करने वाले कृषकों, पशुपालकों, मछलीपालकों, से किसान क्रेडिट कार्ड हेतु आवेदन प्राप्त किया जा रहा है। साथ ही शिविर अवधि में ही त्वरित रूप से नवीन केसीसी जारी की जा रही है। केसीसी के लंबित आवेदनों का विभागवार परीक्षण उपरांत कमियों को तत्काल निराकरण किया जा रहा है तथा केसीसी जारी किया जा रहा है।
शिविर में बैंकवार केसीसी ऋण (अल्पावधि फसल ऋण) वापसी की अंतिम समय-सीमा की जानकारी
भी किसानों को दी जा रही है। शिविर में पीएम- किसान योजनांतर्गत पंजीकृत समस्त पात्र कृषकों को शत प्रतिशत केसीसी जारी किया जा रहा है। फसल ऋण के संबंध में फसलवार नवीन ऋणमान एवं आवेदन प्रक्रिया की जानकारी देते हुए कृषकों को सुलभता से फसल ऋण उपलब्ध कराई जा रही है । शिविर में शासन की महत्वाकांक्षी योजनाओं जैसे धान के बदले वैकल्पिक फसल लगाने हेतु प्रोत्साहन, राजीव गांधी किसान न्याय योजना, गोधन न्याय योजना प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एवं अन्य विभागीय योजनाओं संबंधित प्रचार-प्रसार सामग्री कृषकों को वितरण करके जानकारी भी दी जा रही है।

Editor in chief | Website | + posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button