कोरबा

जैसा रहेगा आहार वैसा बनेगा विचार- डॉ.नागेंद्र शर्मा

जंक फूड के सेवन से स्वास्थ्य को नुकसान

 

29 जून हलहारीणि अमावस्या के पावन पर्व पर स्त्री, पुरुषों तथा बच्चों के सभी सामान्य, साध्य, कष्टसाध्य एवं असाध्य रोगों हेतु दिनाँक 29 जून 2022 बुधवार को पतंजलि आरोग्य केंद्र कटघोरा में आयोजित निःशुल्क आयुर्वेद एवं योग चिकित्सा परामर्श शिविर का शुभारंभ छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध अनुभवी आयुर्वेद चिकित्सा विशेषज्ञ चिकित्सक वैद्य डॉ. नागेन्द्र नारायण शर्मा, पतंजलि आरोग्य केंद्र कटघोरा के संचालक विपिन चंद्र जायसवाल एवं शिविरार्थियों ने आयुर्वेद प्रवर्तक भगवान धनवंतरी के तैल्य चित्र पर माल्यार्पण कर एवं उनके समक्ष दीप प्रज्ज्वलन कर पूजन अर्चन कर किया। शिविर में अपनी सेवायें दे रहे आयुर्वेद एवं योग चिकित्सा विशेषज्ञ पतंजलि योगपीठ हरिद्वार से प्रशिक्षित छत्तीसगढ़ प्रान्त के ख्यातिलब्ध चिकित्सक वैद्य डॉ.नागेन्द्र नारायण शर्मा ने शिविरार्थियों का उपचार करने के साथ साथ उनके लिए उपयोगी लाभकारी दिनचर्या , ऋतुचर्या, पथ्य, अपथ्य एवं आहार विहार के बारे में विस्तार से बताते हुए शिविरार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि इस प्रदूषित वातावरण एवं आपाधापी भरे जीवन में स्वयं को स्वस्थ रखने के लिये सभी लोगों को अपने आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। क्योंकि जैसा हमारा आहार रहेगा वैसा ही हमारा विचार बनेगा इसलिये हम सभीको अपने आहार पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिये न केवल आहार की गुणवत्ता तथा मात्रा पर बल्कि उसके प्राप्ति के स्त्रोत पर भी। साथ ही हमे जंक फूड का सेवन न स्वयं करना है और न ही हमारे बच्चों तथा युवा पीढ़ी को करने देना है क्योंकि इससे भी हमारे स्वास्थ्य को बहुत ज्यादा नुकसान होता है।इस विषय मे स्वयं जागरुक रहकर औरों को भी जागरुक करना है। ये हम सबका दायित्व भी है और कर्तव्य भी। मरीजों की जांच करते हुए उन्होंने शिविर मे मधुमेह, ब्लड प्रेशर, दमा, कैंसर, बवासीर, माइग्रेन, थायरॉइड, पथरी, अतिसार, निमोनिया, सभी प्रकार के वातजरोग, कफज रोग, पित्तज रोग, चर्मरोग तथा स्त्री, पुरुष एवं बच्चो के सभी प्रकार के सामान्य, साध्य,कष्टसाध्य, एवं असाध्य रोगों से पीड़ित 63 मरीजों की जांच कर परामर्श दिया। शिविर में रोगियों रोगोपचार के लिये उपयोगी योगाभ्यास ताड़ासन, तिर्यक ताड़ासन, कटि सौंदर्य आसन, मंडूकासन, धनुरासन, शशकासन, सेतुबंध आसन, पादहस्तासन, वक्रासन, मर्कटासन, ग्रीवा संचालन, तथा भस्त्रिका, कपालभाति, एवं अनुलोम विलोम प्राणायाम का व्यक्तिगत रूप से विशेष प्रायोगिक प्रशिक्षण भी डॉ.नागेंद्र शर्मा द्वारा दिया गया।शिविर में निशुल्क चिकित्सकीय परामर्श के अलावा मरीजों की ब्लड शुगर की जांच भी निशुल्क की गई । शिविर में वैद्य डॉ. नागेन्द्र नारायण शर्मा, पतंजलि आरोग्य केंद्र कटघोरा के संचालक विपिन चंद्र जायसवाल के अलावा अश्विनी बुनकर, नेत्रनंदन साहू, अमरनाथ सेसर, सुलेन्दर नेटी एवं कामेश्वरी कैवर्त ने विशेष रूप से उपस्थित होकर अपना महवपूर्ण योगदान दिया।

Editor in chief | Website | + posts
Back to top button
error: Content is protected !!