कोरबा

फर्जी बिजली बिल देकर धोखाधड़ी करने के मामले में 02 आरोपी गिरफ्तार

बिजली बिल कम करने का झांसा देकर करते थे ठगी, मीटर रीडिंग का ठेका में कर चुके हैं काम।

 

कोरबा। कोरबा जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों में फर्जी बिजली बिल देकर ठगी करने वाले गिरोह में शामिल 02 आरोपियों की गिरफ्तार किया गया है ।

प्रार्थी महावीर प्रसाद साहू पता शंकर लाल साहू निवासी नकटीखार कोरबा के द्वारा दिनांक 13.08.2022 को पुलिस चौकी रामपुर में रिपोर्ट दर्ज कराया कि विकास तिवारी नाम का व्यक्ति घर आकर कहा की आपका बिजली का बिल बहुत ज्यादा आया है , अगर आप चाहेंगे तो मैं कम कर दूंगा , अगले माह से बिल कम आने लगेगा , इसके एवज में आपको आधा बिल पटाना पड़ेगा । आरोपी के झांसे में आकर प्रार्थी द्वारा फोन पे , गूगल पे के माध्यम से कुल 30 हजार रूपए ठगी कर लिया , कुछ दिन पश्चात बिजली विभाग से फिर से बिल प्राप्त होने पर उसे ठगी का अहसास हुआ , पुलिस चौकी रामपुर में अज्ञात आरोपीगण के विरुद्ध धारा 420 भादवि के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया ।

पुलिस अधीक्षक कोरबा संतोष सिंह को इसी प्रकार लगातार सूचनाएं मिल रही थी कि जिले में एक गिरोह सक्रिय है जो बिजली उपभोक्ताओं के घर घर जाकर उन्हें बिजली बिल कम करने का झांसा देकर उनसे ठगी कर रहा है ।

उक्त सूचना पर संतोष सिंह द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा के नेतृत्व एवं नगर पुलिस अधीक्षक कोरबा योगेश साहू के पर्यवेक्षण में चौकी प्रभारी रामपुर उप निरी कृष्णा साहू एवं सायबर सेल के टीम को उक्त ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर गिरफ्तार करने हेतु निर्देश दिया गया था ।

पुलिस चौकी रामपुर में दर्ज उक्त मामले के आधार पर सायबर सेल की टीम द्वारा जांच शुरू किया गया , पाया गया कि आरोपी विष्णु देवांगन पिता कौशल प्रसाद देवांगन एवं राकेश रात्रे पिता रामप्रसाद रात्रे निवासी चांपा थाना चांपा जिला जांजगीर चांपा के द्वारा गिरोह बनाकर उक्त घटना को अंजाम दिया जा रहा है , आरोपीगण द्वारा बिजली उपभोक्ताओं के घर पर जाकर/उनके फोन पर व्हाट्सएप के माध्यम से फर्जी बिल प्रेषित कर उनसे फोन पे, गूगल पे एवं नकदी रकम लेकर धोखाधड़ी किया जा रहा है । उक्त मामले में आरोपीगण विष्णु देवांगन एवं राकेश रात्रे को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया है । उल्लेखनीय है कि सभी आरोपीगण पूर्व में बिजली मीटर रीडिंग का ठेका लेने वाली कंपनी के कर्मचारी हैं ,कंपनी का ठेका समाप्त होने के बाद बेरोजगार हैं , कंपनी में काम करने के दौरान उपभोक्ताओं के बिजली कनेक्शन के बारे में जानकारी इनके पास था ,आरोपीगण ने जानकारी का दुरुपयोग कर ठगी करना शुरू कर दिया था ।

Editor in chief | Website | + posts
Back to top button
error: Content is protected !!