रायपुर

कलेक्टर का सघन दौरा: गौठानों का किया अवलोकन, स्कूलों में देखी व्यवस्थाएं

बरबंदा के स्वामी आत्मानंद सरोवर (तालाब) की साफ-सफाई और सुरक्षा के इंतजाम के दिये निर्देश

 

रायपुर । कलेक्टर डॉ सर्वेश्वर भुरे ने आज भी जिले के चार गांवों का दौरा कर जन समस्याओं और मांगो की जानकारी ली। डॉ भुरे आज रिमझिम बारिश के बीच धरसींवा विकासखंड के बरौदा, बरबंदा, पथरी और निलजा गाँव पहुँचे। इन गॉवों में कलेक्टर ने गौठानों, स्कूलों, आंगनबाड़ी केंद्रों में व्यवस्थाओं का जायजा लिया और स्थानीय जनप्रतिनिधियों – निवासियों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने शासकीय योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी ग्रामीणों से ली और उनकी समस्याओं- मांगो के बारे में पूछा। इस दौरान जिला पंचायत के सीईओ डॉ. रवि मित्तल, जिला कार्यक्रम अधिकारी शैल ठाकुर सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहें।

कलेक्टर डॉ भुरे ने आज बरौदा गाँव पहुँचकर आंगनवाड़ी केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने बच्चों के लिए केंद्र में उपलब्ध सुविधाओं का जायज़ा लिया। कलेक्टर ने सरपंच और महिला बाल विकास अधिकारी को आँगनवाडी के सामने पेवर ब्लाक लगाने के निर्देश दिए साथ ही बच्चों को दिए जाने वाले रेडी टू ईट पोषक आहार की भी जाँच की। कलेक्टर ने बरबंदा गाँव के गौठान का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने गौठान में चल रही आजीविका गतिविधियों की जानकारी संचालक समिति से ली। कलेक्टर ने मुर्गीपालन, बकरीपालन सहित अन्य गतिविधियों को लगातार जारी रखने के निर्देश दिए, ताकि महिला समूहों को लगातार रोज़गार मिले और उन्हें लगातार आय भी होती रहे। उन्होंने बरबंदा गौठान में गोबर ख़रीदी और वर्मी खाद उत्पादन की जानकारी भी ली। कलेक्टर ने गौठान में वर्मी टाँको का निरीक्षण किया और महिला समूहों की सदस्यों को खाद बनाने की निर्धारित प्रक्रिया का पालन करने को कहा। समूह की सदस्यों ने बताया की इस बार अभी तक मुर्गीपालन से लगभग 15 हज़ार रुपए की आमदनी हो गई है। आठ -दस दिनो में वर्मी खाद भी तैयार हो जाएगा। महिलाओं ने बताया कि गोबर से बायो गैस भी बनाई जा रही है और गॉव के 8-10 घरों को कनेक्शन भी दिया गया है ।इन घरों के लोग गोबर गैस का उपयोग ईंधन के रूप में भोजन आदि बनाने में कर रहे है । डॉ भुरे इस पर खुशी जताई और नियमित गोबर ख़रीदी करने और गोबर को सुरक्षित रखने के निर्देश अधिकारियों को दिए।उन्होंने बरबंदा के आंगनबाड़ी केंद्र में साफ सफाई बेहतर करने के निर्देश दिए साथ ही बच्चों के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को कहा।

डॉ भुरे ने बरबंदा के स्वामी आत्मानंद सरोवर(तालाब) का भी अवलोकन किया।उन्होंने सरोवर में पहले किये गए सौंदर्यीकरण के कामों का अवलोकन किया।कलेक्टर ने सरोवर के फुटपाथ पर पशुओं की आवाजाही से गोबर आदि गंदगी पर नाराजगी जताई और सरपंच को सफाई करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने सरोवर की सफाई, झाड़ी छोटे पेड़ साफ करने और फूलदार आकर्षक पौधों की देखभाल के लिए एक माली की सेवाएं लेने के भी निर्देश दिए। उन्होंने सरोवर परिसर में पशुओं की आवाजाही को भी रोकने की व्यवस्था करने के निर्देश ग्राम पंचायत सचिव को दिये।

डॉ भुरे ने बरबंदा के हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर का भी औचक निरीक्षण किया। उन्होंने केंद्र में बीमार लोगों के इलाज के लिए उपलब्ध सुविधाओं को देखा । कलेक्टर ने अस्पताल में ओ पी डी के साथ प्रसव आदि की भी जानकारी ली और डॉक्टरों-नर्स और अन्य स्टाफ को बेहतर इलाज की सुविधा देने के निर्देश दिए। उन्होंने पर्याप्त मात्रा में दवाई और अन्य उपकरण आदि भी अस्पताल में उपलब्ध रखने को कहा। पदस्थ नर्स ने बताया कि सेंटर में प्रतिदिन 20-25 लोगों की ओ पी डी हैं और गर्भवती महिलाओं के प्रसव की भी सुविधा है।

Editor in chief | Website | + posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button