Uncategorized

 दीपका में हुये गोली कांड का हुआ खुलासा

 लूट की नियत से दिया था गोली कांड को अंजाम,नशे में चल गई थी गोली।

 

50,000/रूपये की लूट को दिये थे अंजाम,घटना स्थ्ल से दो खाली कारतूस बरामद।

 आरोपियों से अलग-अलग कुल 14,000/रूपये बरामद किया गया।

 पुलिस का दबाव बनता देख पकडाने के डर से घटना में प्रयुक्त पिस्टल को बल्गी नदी में फेका।

कोरबा (दीपका) / दिनांक 31/12/2021 के रात्रि करीबन 10:30 बजे झाबर निवासी सरोजनी बाई उम्र 25 के घर में घुसकर दो अज्ञात युवक सिर में गोलीमार कर घर में रख्रे 50,000/रूपये की लूट कर भाग गये थे। जिस पर थाना दीपका में अपराध क्रमांक 326/2021 धारा 307,34 भादवि 25,27 आर्म्स एक्ट का अपराध पंजीबध्द कर विवेचना किया जा रहा था। मामले की गंभीरता को देखते हुये पुलिस अधीक्षक कोरबा भोजराम पटेल (भा0पु0से) के द्वारा मामले की पतासाजी हेतु विशेष निर्देश दिये थे। अति0 पुलिस अधीक्षक कोरबा अभिषेक वर्मा (रा0पु0से) के मार्गदर्शन में नगर पुलिस अधीक्षक दर्री सुश्री लितेश सिंह के हमराह में सायबर सेल कोरबा व थाना दीपका का संयुक्त टीम बनाकर मामले के हर एंगल की बारिकी से पतासाजी की जा रही थी किन्तु निराशा ही हाथ लग रही थी। मामले की पीडिता के पति सन्नी से विस्तार पूर्वक पूछताछ किया गया जिसमें उसने बताया कि घटना दिनांक के दिन में वह अपने ट्रेक्टर का लोन पटाने के लिये घर में रखे पैसा जमा करने वाले मिटटी के बर्तन को फोडकर करीबन 50,000/रूपये को आलमारी में रखा था। जिसकी जानकारी अपने करतला निवासी दोस्त जावेद को दिया था। जो कि घटना दिनांक को सन्नी से मिलने दीपका भी आया था घर मे पैसा होने की जानकारी मिलने पर जावेद बांकीमोंगरा अपने दोस्त धरम सिंह राजपूत के पास जाकर उसको सारा बात बताकर दोनों ने लूट करने का प्लान किया और रात को करीबन 09:30 बजे के आसपास दोनों पिस्टल लेकर सनी के घर के पास इंतजार करने लगे जैसे ही सनी घर से बाहर गया मौका पा कर दोनों आरोपी घर में घुस गये और सरोजनी बाई को गोली मारकर आलमारी में रखे 50,000/रूपये को लूट कर भाग गये। जब दोनों आरोपी घटना कारित कर भाग रहे थे तभी वे लोग सन्नी के पडोसी कोन्दा से टकरा गये जिसने दोनों आरोपियों का पहचान लिया था। आरोपी जावेद ने बताया कि धरम सिंह राजपूत पिस्टल लेकर आया था और नशे में गोली चल गई उसका गोली मारने का नियत नही था। घटना के बाद मामले का मुख्य आरोपी धरम सिंह राजपूत पकडाने के डर से व पुलिस के बढते दबाव के कारण पिस्टल को बलगी नदी में फेंक दिया था। आरोपी जावेद अहमद घटना कारित करने के पूर्व से दूसरे दिन 11:00 बजे तक अपना मोबाईल को बंद करके रखा हुआ था। मामले में उक्त दोनों आरोपीगणों को विधिवत गिरफतार कर न्यायिक अभिरक्षा में भेजा जा रहा है।

Editor in chief | Website | + posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button