कोरबा

बच्चा संस्कार मां की गोद में तथा सभ्यता बाहर से सीखता है – आर के बधावन

प्राथमिक विद्यालय पाली में संपन्न हुआ अंगना म शिक्षा कार्यक्रम

कोरबा/माता जीवन की पहली गुरु तथा घर की जीवन की पहली पाठशाला होती है जहां से बच्चों में संस्कार भरे जाते हैं इसलिए यह चरितार्थ है कि बच्चों में संस्कार मां की गोद में, सभ्यता बाहर से आती है। अंगना में शिक्षा कार्यक्रम का उद्देश्य शाला प्रवेश के पूर्व बच्चों व माताओं को करीब लाकर शिक्षा की परिपक्वता को बढ़ाना है उक्त उद्गार प्राथमिक विद्यालय पाली में आयोजित अंगना म शिक्षा कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एसईसीएल के उप महाप्रबंधक आर के बधावन ने कही। कार्यक्रम का प्रारंभ मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण, दीप प्रज्वलन तथा छत्तीसगढ़ के राजकीय गीत से हुआ। अतिथियों का स्वागत भाषण प्राथमिक विद्यालय के प्रधानपाठिका श्रीमती संगीता सिंह ने किया। अंगना म शिक्षा कार्यक्रम के ब्लॉक नोडल अधिकारी श्रीमती विद्या दुबे व डीआरसी पी. साहू ने कार्यक्रम के उद्देश्य बताते हुए सरलता, सहजता तथा उत्साहपूर्वक बच्चों को शिक्षा व उनकी माताओं को गतिविधियों से जोड़कर शिक्षा को प्रभावी बनाने की बात कही। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय सेवा योजना कोरबा के जिला संगठक वाय के तिवारी ने कहा कि यह कार्यक्रम विद्यालय, विद्यार्थी, किताबों व परिवार चारों को एक कड़ी में जोड़ते हुए शिक्षा को अधिक मूल्यपरक व ग्राहय बनाने का कार्यक्रम है। कोविड की कठिन परिस्थितियों से बनी अवरोध ने इस कार्यक्रम की महत्ता को बढ़ा दिया है। कार्यक्रम को शाला विकास समिति की शिक्षाविद सदस्य श्रीमती रीना यादव, सरपंच श्रीमती कमला देवी कवर, उपसरपंच चंदन राम यादव, एसईसीएल के राजस्व निरीक्षक बालकृष्ण पांडेय, कांग्रेस कमेटी के ब्लॉक अध्यक्ष गोरेलाल यादव आदि ने भी संबोधित किया।

बच्चों के लिए 9 काउंटर बनाकर विभिन्न सामग्रियों से 5 से 8 साल के बच्चों के बीच विविध गतिविधियां संपन्न करवाई गई ताकि बच्चों की शारीरिक, मानसिक, क्रियाशीलता, सीखने की प्रवृत्ति व अवलोकन शक्ति को परखा जा सके। इस कार्यक्रम में ग्राम के आंगनबाड़ी व प्राथमिक विद्यालय के 52 बच्चों ने भाग लिया। विविध गतिविधियों में उत्कृष्ट प्रदर्शन कु मधु महंत का रहा जिसकी माताजी श्रीमती शांति बाई महंत को मुख्य अतिथि व गणमान्य अतिथियों द्वारा स्मार्ट माता के खिताब से नवाजते हुए क्राउन व बैच पहनाकर बुके भेंट कर सम्मानित किया गया। आंगन म शिक्षा सह मेला कार्यक्रम में विद्यालय के बच्चों व ग्राम की माताओ ने सुंदर नृत्य तथा गीतों का प्रदर्शन किया जिन्हें एसईसीएल के उप महाप्रबंधक आर के बधावन ने 5100 तथा आर आई बालकृष्ण पांडेय ने 5100 रु का नगद पुरस्कार प्रदान करने की घोषणा की। शाला विकास समिति ने समस्त अतिथियों व प्रतिभागियों के लिए भोजन प्रसाद की व्यवस्था करवाई थी।

अंगना में शिक्षा कार्यक्रम के आयोजन में शाला विकास समिति के संरक्षक दिलहरण सारथी, अध्यक्ष व पंच इंद्रपाल सिंह कंवर, उप सरपंच चंदनराम यादव, पंच अजतराम यादव, प्रभारी प्रधान पाठिका कनबेरी कु सुनीता सरवानी, सुजीत जांगड़े, मिनेशपुरी गोस्वामी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता लीलाबाई यादव, करण सारथी, मितानिन उषा यादव, विद्यालय की सफाई कर्मी ममता केवट, कु पूर्णिमा यादव, शालिनी, भगवती, मानसी, रागिनी आदि ने सक्रिय सहयोग प्रदान किया।

जिला संगठक वाय के तिवारी के नेतृत्व में कमला नेहरू महाविद्यालय कोरबा के ब्लू ब्रिगेड स्वयंसेवकों जयप्रकाश पटेल, शनीदेव खुटे, पूजा गुप्ता, शास्वत शर्मा, यदुनंदन सिंह, वर्षा जोगी, शिवम श्रीवास, शुभम शर्मा, रेखा नेताम, दुर्गा नेताम, विद्या चौहान, तिलेश्वर पटेल आदि ने पोस्टर आदि से पंडाल को सजाने, विभिन्न गतिविधियों के आयोजन , भोजन वितरण व परिसर की स्वच्छता आदि कार्यों में सक्रिय सहयोग प्रदान किया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में पंचायत प्रतिनिधि, बच्चों की माताएं व ग्रामवासी उपस्थित थे।

Editor in chief | Website | + posts
Back to top button
error: Content is protected !!