कोरबा

सीएमडी एसईसीएल के द्वारा किया गया खान सुरक्षा पखवाड़ा का उद्घाटन

सुरक्षा से समृद्धि ब्रोसर का किया गया विमोचन

कोरबा, 10 जनवरी (ट्रैक सिटी न्यूज़) कोरबा जिलान्तर्गत एसईसीएल मुख्यालय प्रशासनिक भवन प्रांगण में एसईसीएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक डॉ. प्रेम सागर मिश्रा ने वार्षिक खान सुरक्षा पखवाड़ा का उद्घाटन 9 जनवरी को सुरक्षा ध्वज फहराकर किया।
इस अवसर पर एसईसीएल के निदेशक तकनीकी (संचालन) एस.के. पाल, निदेशक तकनीकी (योजना/परियोजना) एस.एन. कापरी, महाप्रबंधक (खान सुरक्षा/बचाव) बी.पी. सिंह, महाप्रबंधक (कार्मिक/प्रशासन) ए.के. सक्सेना, विभिन्न विभागाध्यक्षगण, विभिन्न श्रमसंघ प्रतिनिधिगण, अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे।
कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथियों ने शहीद स्मारक व खनिक प्रतिमा पर माल्यार्पण किया उसके उपरांत मुख्य अतिथि द्वारा सुरक्षा ध्वज फहराया गया। तदपश्चात कोल इण्डिया कॉरपोरेट गीत बजाया गया। इस अवसर पर सुरक्षा से समृद्धि ब्रोसर का विमोचन मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथियों के करकमलों से किया गया।
अपने सम्बोधन में मुख्य अतिथि अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक डॉ. प्रेम सागर मिश्रा ने इस आयोजन की बधाई व शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि हम सभी सुरक्षित रहें, हमारा कोई भी कर्मचारी जो भूमिगत खदान, खुली खदान या कार्यालय में कार्य करता है अपने घर सुरक्षित पहुँचे। यदि किसी को भी क्षति पहुँचता है इससे बहुत तकलीफ होती है। हम ऐसे सिस्टम का निर्माण करें जिससे हमारा हर व्यक्ति, हर कामगार सुरक्षित महसूस करे और सुरक्षित अपने घर पहुँच सके। कोई भी व्यक्ति जानबूझकर कोई ऐसा काम न करे जो उसके लिये या उसके साथ काम करने वालों के लिए हानिकारक हो। हमें क्या करना है, क्या नहीं करना है यह भली-भांति मालूम होना चाहिए। अपने जिम्मेदारियों का निर्वहन हमें भली-भांति करना चाहिए।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि डॉ. प्रेम सागर मिश्रा द्वारा सुरक्षा शपथ दिलाई जिसे उपस्थितों ने दोहराया “मैं सत्यनिष्ठा से प्रतिज्ञा करता हूँ कि मैं सुरक्षा और स्वास्थ्य के लिए अपने आपको समर्पित करूँगा तथा सभी संवैधानिक प्रावधानों का पालन करने हेतु यथाशक्ति प्रयत्न करूँगा और निश्चित रूप से इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रेरणादायक अभिवृत्तियों एवं आदतों का विकास करूँगा। मैं शून्य क्षति दक्षता प्राप्त करने हेतु हर संभव प्रयास करूँगा और मैं जानबूझकर या लापरवाही पूर्वक ऐसा कुछ नहीं करूँगा जिसके फलस्वरूप मैं या खदान में कार्यरत मेरे सहयोगी खतरे में पड़ जायें अथवा खदान व उसके आसपास की किसी भी संपत्ति का नुकसान हो।”
कार्यक्रम का संचालन सौरभ पाण्डेय मुख्य प्रबंधक(खनन) सेफ्टी विभाग द्वारा किया गया।

Editor in chief | Website | + posts
Back to top button
error: Content is protected !!