IMG-20230125-WA0035
IMG-20230125-WA0037
IMG-20230125-WA0038
कोरबा

लंबित महंगाई भत्ते की मांग को लेकर कर्मचारी अधिकारी लामबंद

30 मई को जिला , ब्लाक एवम तहसील मुख्यालयों में प्रर्दशन करते हुए मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर, एसडीएम, तहसीलदार को सौंपेंगे ज्ञापन

 

मांग पूरी नहीं होने पर करेंगे अनिश्चित कालीन आंदोलन

कोरबा/छत्तीसगढ़ प्रदेश में कार्यरत कर्मचारी अधिकारियों द्वारा अपने लंबित महंगाई भत्ते की 1सूत्री मांग को लेकर छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के बैनर तले 30 मई को ब्लॉक तहसील एवं जिला मुख्यालयों में प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर एसडीएम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा जाएगा। तत संबंध में 26 मई 2022 को जिला कोरबा के कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन की आपात बैठक शिक्षक सदन कोरबा मे संपन्न हुआ। बैठक में वर्तमान महंगाई को देखते हुए शासन द्वारा देय महंगाई भत्ते को नियत समय पर नहीं देने एवं नियम के विपरीत महंगाई भत्ता की कटौती करते हुए प्रदान किया जाना कर्मचारी हित में कुठाराघात है । इस संबंध में छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन जिला कोरबा के संयोजक के आर डायरिया संरक्षक प्यारे लाल चौधरी एवं पदाधिकारियों द्वारा जिले में फेडरेशन से संबद्ध संगठनों के जिला संयोजक जिलाध्यक्ष को अपने अपने संगठन से जुड़े सभी अधिकारी कर्मचारियों को 30 मई को होने वाली धरना प्रदर्शन में शामिल कराने प्रचार प्रसार करने की अपील की है फेडरेशन के जिला महासचिव तरुण सिंह राठौर एवं प्रवक्ता ओम प्रकाश बघेल ने जिले में कार्यरत सभी कर्मचारी अधिकारियों को एकजुटता का परिचय देते हुए धरना स्थल तानसेन चौक आईटीआई चौक में लगभग 3:00 बजे दोपहर उपस्थित होने की अपील की है ।

ज्ञातव्य हो कि छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के प्रांतीय बैठक में लिए गए निर्णय अनुसार आंदोलन की रूपरेखा 4 चरणों मे तैयार किया गया है जिसमें प्रथम चरण में 30 मई 2022 को छत्तीसगढ़ के प्रत्येक विकासखंड तहसील एवं जिला मुख्यालयों में प्रदर्शन करते हुए माननीय मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर ,तहसीलदार, एसडीएम के द्वारा ज्ञापन सौंपा जाएगा। यदि मांग पर विचार नहीं होने की स्थिति में द्वितीय चरण में 29 जून को प्रदेश के समस्त कर्मचारी अधिकारी के द्वारा प्रांतीय स्तर पर महारैली किए जाएंगे फिर भी सरकार इन मांगों को नजरअंदाज करती है तो पुनः तीसरे चरण 25 जुलाई से 29 जुलाई तक कलम बंद आंदोलन किए जाएंगे तत्पश्चात सरकार उक्त मांगों पर विचार नहीं करती इन परिस्थितियों में अन्य कोई भी विकल्प छत्तीसगढ़ में कार्यरत कर्मचारी अधिकारियों के पास प्रतीत नही होता । अनिश्चितकालीन आंदोलन ही सत प्रतिशत महंगाई भत्ता प्राप्त करने विकल्प के तौर पर नज़र आता है।आज की बैठक में संयोजक के आर डहरिया ,संरक्षक प्यारे लाल चौधरी ,महासचिव तरूण सिंह राठौर , प्रवक्ता ओम प्रकाश बघेल , एस एन शिव, मानसिंह राठिया, संतोष कुमार शुक्ला, विनय सोनवानी, नकुल राजवाड़े, रामचंदनामदेव, आर के शर्मा, आर डी केसकर, टी आर कुर्रे, देवेंद्र स्वर्णकार , एन आर बाइसटाले, के आर टंडन ,एवं विभिन्न संगठनों की पदाधिकारी बैठक में उपस्थिति रहे।

Editor in chief | Website | + posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!